​ ​ लखीमपुर खीरी : मंझरा पूरब में बाघ को रोकने के लिए खोदी गई खाई
Friday, December 4, 2020 | 7:24:08 PM

RTI NEWS » State News » UTTAR PRADESH


लखीमपुर खीरी : मंझरा पूरब में बाघ को रोकने के लिए खोदी गई खाई

Monday, November 9, 2020 09:26:57 AM , Viewed: 1334
  •  मझरा पूरब में बाघ को रोकने के लिए खोदी गई खाई

    हाथियों की काबिंग से घबराया बाघ, नहीं आया जंगल से बाहर

    लखीमपुर खीरी की तहसील निघासन के अंतर्गत निघासन रेंज के मझरा पूरब में हिंसक बाघ की तलाश में दूसरे दिन रविवार को भी काबिंग जारी रही। लेकिन वन कर्मियों को काबिंग के दौरान पग चिन्ह के सिवाय बाघ की कोई लोकेशन नहीं मिली। एक तरफ बाघ को खदेड़ने के लिए हाथियों से काबिंग तो दूसरी तरफ बाघ को रोकने के लिए खाई खोदी जा रही है।
    अधिकारियों ने हिंसक बाघ के मूवमेंट के लिए कर्तनिया घाट से आए दो मादा हाथी चंपाकली और जयमाला के द्वारा शनिवार को काबिंग शुरू कर दिया था। जो दूसरे दिन रविवार को भी जारी रही। वनरक्षक जगमोहन मिश्रा और वन दरोगा हरीलाल के साथ ही स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स की टीम भी दूसरे दिन रविवार को पूरा दिन भ्रमण करती रही लेकिन बाघ की कोई लोकेशन नहीं मिली। वन कर्मियों के मुताबिक बाघ को जंगल में रोकने के लिए हाथियों से काबिंग की जा रही है। शायद इसी वजह से वह घबराकर जंगल से बाहर नहीं आया है। वन अधिकारियों ने मझरा पूरब में शिकार की घटनाओं को रोकने के लिए जंगल की तराई में खाई खुदाई का कार्य शुरू कर दिया है। वन कर्मियों के मुताबिक जंगल जाने वाले रास्तों पर खाई खुदने से ग्रामीणों का जंगल में आवागमन नहीं हो पाएगा। इससे मानव- बाघ संघर्ष की घटनाएं रोकी जा सकेंगी। राजीव खत्री ब्यूरो चीफ आर टी आई न्यूज लखीमपुर खीरी ।!

Reporter : rajeevkhatri,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।