​ ​ लखीमपुर खीरी : पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया
Thursday, October 1, 2020 | 9:26:51 AM

RTI NEWS » State News » UTTAR PRADESH


लखीमपुर खीरी : पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया

Sunday, August 9, 2020 08:24:08 AM , Viewed: 306
  • लखीमपुर खीरी में 
    पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री द्वारा बाढ राहत कार्यो की, की गयी समीक्षा
    बंधो पर 24 घन्टे पेट्रोलिंग, सभी एहतियाती उपायो को अपनाये जाने तथा बाढ पीडितो को तत्कालिक रुप में राहत सामाग्री भी उपलब्ध कराये जाने के दिये गये निर्देश 
    शनिवार को प्रदेश के कैबिनेट मंत्री, पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग अनिल राजभर एवं राज्यमंत्री जलशक्ति विभाग बलदेव सिंह ओलख अपने निर्धारित भ्रमण कार्यक्रम के अनुसार राजकीय हेलीकॉप्टर से जिला खीरी के शारदा बैराज हेलीपैड पर पहुंचे। जहां जिला अधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह और पुलिस अधीक्षक  सत्येंद्र कुमार  ने उनके जनपद आगमन पर उनका स्वागत किया।
    इसके उपरांत प्रदेश के पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के मंत्री अनिल राजभर एवं राज्यमंत्री जलशक्ति विभाग बलदेव सिंह ओलख द्वारा शारदा नहर गेस्ट हाउस में विभागीय अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के साथ बाढ की स्थिति एवं बाढ पीड़ित परिवारों को उपलब्ध कराई जा रही सहायता की समीक्षा की गयी तथा आवश्यक निर्देश दिये गये।

    बैठक की अध्यक्षता करते हुए पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री श्री राजभर ने इस दौरान तटबंधो पर 24 घण्टे पेट्रोलिंग की व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि बंधों की संवेदनशीलता के दृष्टिगत अति सर्तकता बरतने की जरुरत है। उन्होने पेट्रोलिंग एवं विधुत एवं जनरेटर की व्यवस्था भी संवेदनशील बंधो पर बनाये रखने के साथ ही सभी एहतियाती उपायो को अपनाये जाने के निर्देश भी दियें। उन्होने कहा कि  बाढ की स्थिति से उत्पन्न समस्या से निपटने के लिये सरकार पूरी तरह से संवेदनशील है। मा0 मुख्यमंत्री जी स्वंय बाढ़ की स्थिति की माॅनीटरिंग कर रहे है। उनके निर्देश क्रम में चार जनपदों के भ्रमण कार्यक्रम पर आयें।
    उन्होंने कहा कि हम सबके सामने बाढ़ एवं कटान की आगे कोई चुनौती आती है तो उसका किस प्रकार से सामना करते हुए जनता की सेवा करेंगे। कोविड-19 के बावजूद भी प्रत्येक सप्ताह मुख्यमंत्री जी द्वारा बाढ़ की नियमित समीक्षा की गई। उन्होंने कहा कि बाढ़ के स्थाई समाधान हेतु उत्तर प्रदेश सरकार अपना कदम बढ़ा चुकी है। मुख्यमंत्री जी की सजगता और सक्रियता के चलते ही बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से पलायन में 90 प्रतिशत गिरावट आई है। गत वर्षो की तुलना में इस वर्ष दोगुना पानी आ चुका है। फिर भी स्थितियां नियंत्रण में है। उत्तर प्रदेश सरकार जनता की सेवा के लिए निरंतर प्रतिबंध है। उन्होंने कहा कि क्षतिग्रस्त नाव का प्रयोग कदापि न किया जाए और नावों में क्षमता से अधिक लोगों को ना बैठाया जाए। चारे की व्यवस्था, पशुओं के टीकाकरण सहित अन्य बिंदुओं पर बिंदुवार समीक्षा की। उन्होंने कहा कि बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में चिकित्सा एवं पशुपालन विभाग की टीमें एक्टिवेट होकर कार्य करें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सर्पदंश की घटनाओं से निपटने के लिए पूरी तैयारी रखने हेतु निर्देशित किया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं संबंधित एसडीएम भ्रमणसील रहते हुए स्थिति पर निगाह रखें। उन्होंने नाविकों का समय से भुगतान हेतु संबंधित को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि बाढ़ और कटान से कैसे बचा जाए और उसके प्रभाव को कैसे कम किया जाए, उसकी अगले 45 दिन की कार्ययोजना बनाकर कारवाही करने हेतु संबंधित को निर्देशित किया।
    बाढ़ राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख ने वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए सीएमओ को बाढ़ हेतु प्रथक से एक अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाने हेतु निर्देशित किया।
    वहीं जिला अधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह ने बाढ प्रबंधन की तैयारियों का विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गत 3 वर्षों में काफी संख्या में प्रोजेक्ट स्वीकृत होने से स्थितियों में काफी सुधार हुआ है। उन्होंने बताया कि रैनी समदहा शारदा का ओवरफ्लो हुआ था। जहां वर्तमान में स्थितियां ठीक है। वही जंगल नंबर 7 में कटान शुरू हुआ था जहां अधिकारियों की सजगता के चलते दो-तीन दिन में स्थितियां नियंत्रण में है। 
    बैठक उपरान्त बाढ राहत खाद्यान्न किट प्रभावितों में वितरित किया गया।
    इनकी रही मौजूदगी :
    बैठक में विधायक सदर योगेश वर्मा, विधायक श्रीनगर मंजू त्यागी, अपर मुख्य सचिव सिंचाई टी०वेंकटेश, डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह,एसपी सत्येंद्र कुमार, सीडीओ अरविंद सिंह, सीएमओ डॉ मनोज अग्रवाल, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व  अरुण कुमार सिंह, मुख्य अभियंता, शारदा एसपी सिंह, अधीक्षण अभियंता, बाढ़ खंड एसके पांडे, अधीक्षण अभियंता द्वादशम मंडल  सिंचाई कार्य लखनऊ रामेश्वर मिश्रा, एक्सईएन बाढ़ खंड राजीव कुमार एक्सईएन सिंचाई खंड लखीमपुर डीसी वर्मा,एक्सईएन सिंचाई खंड प्रथम  ओपी वर्मा मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ टीके तिवारी मौजूद रहे।

Reporter : rajeevkhatri,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।