​ ​ राजस्थान सरकार 4 और गांवों के नाम बदलेगी
Thursday, October 18, 2018 | 5:19:44 AM

RTI NEWS » State News » RAJASTHAN


राजस्थान सरकार 4 और गांवों के नाम बदलेगी

Friday, August 10, 2018 19:47:44 PM , Viewed: 1949
  • जयपुर, 10 अगस्त | राजस्थान सरकार चार और गांवों के नाम बदलेगी। इससे पहले राज्य सरकार तीन हिंदू बहुल गांवों के नाम बदल चुकी है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने कहा कि राज्य सरकार ने राज्य में 27 गांवों के नाम बदलने का प्रस्ताव किया है। हालांकि, केंद्र ने अबतक सिर्फ सात नाम बदलने की अनुमति दी है।

    तीन गांव जिनके नाम बदले गए हैं, उसमें बाड़मेर में मियां का बाड़ा, महेश नगर बन चुका है, झुंझुनू का इस्लामपुर अब पिचनवा खुर्द बुलाया जाएगा और अजमेर के सलेमाबाद का नाम बदलकर श्री निंबार्क तीर्थ कर दिया गया है।

    सूत्रों का कहना है कि इन गांवों की शिकायत थी कि मुस्लिम नामों की वजह से लोग अपने बच्चों की शादी करने से हिचकिचाते थे।

    चार अन्य गांवों के नाम भी बदले जाएंगे। इसके तहत चित्तौड़गढ़ के मोहम्मदपुर का नाम मेडिख खेड़ा हो जाएगा। इसी तरह चित्तौड़गढ़ का नवाबपुरा, रामपुरा-अजमपुर व मंडफिया क्रमश: नई सरथल, सीतारामजी खेड़ा व संवलियाजी बन जाएगा।

    मियां का बाड़ा के पूर्व सरपंच हनवंत सिंह ने कहा कि गांव वाले बीते 50 सालों से गांव का नाम बदलने की मांग कर रहे थे। गांव का नाम बदलने का प्रस्ताव 2010 में किया गया था।

    राजस्थान विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले गांवों के नाम बदलने का फैसला किया गया है।

    सूचना के अनुसार, गांव वालों की सहमति से पंचायत राजस्व विभाग को गांव का नाम बदलने का प्रस्ताव भेजती है।

    राज्य सरकार प्रस्ताव की समीक्षा करती है और इसे केंद्र को भेजती है।

    केंद्र सरकार की अनुमति के बाद नाम बदलने का प्रस्ताव पारित हो जाता है।

Reporter : ,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।