​ ​ स्नेहा भारत की पहली ऐसी महिला है जिसकी 'नहीं है कोई जाति, ना कोई धर्म'
Tuesday, July 16, 2019 | 4:49:08 AM

RTI NEWS » RTI » News For Your Rights


स्नेहा भारत की पहली ऐसी महिला है जिसकी 'नहीं है कोई जाति, ना कोई धर्म'

Sunday, February 17, 2019 11:33:19 AM , Viewed: 7403
  • चैन्नईः पेशे से अधिवक्ता स्नेहा हिन्दुस्तान की पहली ऐसी महिला बन गई हैं, जिनकी बीते 9 साल से अब तक ना कोई जाति है और ना ही धर्म. स्नेहा ने खुद ये 'No Caste, No Religion' सर्टिफिकेट बनवाया है, जिसके लिए उन्होने 9 साल तक का समय लगा. हाल ही में 5 फरवरी 2019 को स्नेहा को उनका 'नो कास्ट, नो रिलिजन' प्रमाणपत्र मिला.

    स्नेहा तमिलनाडु, वेल्लोर के तिरूपत्तूर से हैं. स्नेहा खुद ही नहीं बल्कि उनके माता-पिता भी बचपन से ही सभी सर्टिफिकेट में जाति और धर्म का कॉलम खाली छोड़ते थे.

    स्नेहा ने द हिंदू को बताया कि सामाजिक परिवर्तन की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है. उससे भी ज्यादा स्नेहा को बिना जाति और धर्म के खुद की एक अलग पहचान चाहिए थी. 

     

Reporter : Arunkumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।