​ ​ '1920 से 2013 तक 10 फीसदी बढ़ा सहारा मरुस्थल'
Wednesday, September 26, 2018 | 1:34:09 AM

RTI NEWS » RTI » Latest RTI


'1920 से 2013 तक 10 फीसदी बढ़ा सहारा मरुस्थल'

Saturday, March 31, 2018 19:28:55 PM , Viewed: 3472
  • न्यूयार्क: अफ्रीका महाद्वीप में स्थित दुनिया के सबसे बड़े मरुस्थल सहारा के क्षेत्रफल में मानव जनित जलवायु परिवर्तन के कारण 1920 से अब तक 10 फीसदी की वृद्धि हो चुकी है। भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक सहित शोधकर्ताओं के एक दल ने यह दावा किया। जलवायु आधारित एक पत्रिका में छपी इस अध्ययन की रिपोर्ट में कहा गया है कि हो सकता है कि अन्य रेगिस्तानों में भी इसी तरह वृद्धि हुई हो।

    अमेरिका के मैरीलैंड विश्वविद्यालय के पर्यावरणीय और महासागरीय वैज्ञानिक और शोध के वरिष्ठ लेखक सुमंत निगम ने कहा, "हमने सहारा पर आधारित परिणाम दिए हैं। लेकिन उनसे दुनिया के अन्य मरुस्थलों का अनुमान लगाया जा सकता है।"

    रेगिस्तानों को वार्षिक वर्षा के कम अनुपात के आधार पर परिभाषित किया जाता है। यह सामान्य रूप से प्रतिवर्ष 100 मिलीमीटर या इससे कम भी हो सकती है।

    शोधकर्ताओं ने अफ्रीका में 1920 से 2013 तक के वर्षा के आंकड़ों का अध्ययन किया और पाया कि महाद्वीप के ज्यादातर उत्तरी भाग में मौजूद सहारा के क्षेत्रफल में इस दौरान 10 फीसदी वृद्धि हुई।

    शोधकर्ताओं ने जब इस समय अंतराल में सहारा का विश्लेषण मौसमों के अनुसार किया तो उन्होंने मरुस्थल के क्षेत्रफल में सबसे ज्यादा वृद्धि गर्मियों में दर्ज की।

    शोध परिणाम के अनुसार, मानव जनित जलवायु परिवर्तन के साथ-साथ प्राकृतिक परिवर्तनों के कारण मरुस्थल का क्षेत्रफल बढ़ा है।

Reporter : ArunKumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।