​ ​ भारत को विकास की रफ्तार बनाए रखने के लिए नवाचार की जरूरत : उपराष्ट्रपति
Thursday, October 18, 2018 | 5:18:38 AM

RTI NEWS » President of India » President News


भारत को विकास की रफ्तार बनाए रखने के लिए नवाचार की जरूरत : उपराष्ट्रपति

Monday, October 8, 2018 20:28:14 PM , Viewed: 17
  • वारंगल, 8 अक्टूबर | उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने सोमवार को कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था 2025 तक 50 खरब डॉलर की बनने वाली है, इसलिए विकास की रफ्तार को लंबे समय तक बनाए रखने के लिए नवाचारी कार्य को जारी रखना होगा। उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत की विकास यात्रा से दुनिया हैरान है और यह निवेशकों के लिए आकर्षक ठिकाना बन गया है।

    नायडू ने कहा, "भारत का विकास टिकाऊ हो, इसके लिए हमें नवोन्मेषी कार्य को जारी रखना होगा। भारत अब अप्रचलित बनाने की कोशिश नहीं कर सकता है।"

    उपराष्ट्रपति ने यहां राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) के हीरक जयंती समारोह का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत को कम खर्च में नवाचार करने के लिए जाना जाता है।

    उन्होंने कहा कि नवाचार से भ्रष्टाचार और अनुदान की चोरी रोकने में मदद मिली है। इससे अत्यंत कठिन समस्याओं को भी सक्षम व प्रभावकारी ढंग से सुलझाने में मदद मिली है।

    उन्होंने कहा, "हमें अपनी कार्यपद्धतियों को सरल व पारदर्शी बनाने पर ध्यान देना चाहिए।"

    नायडू ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी से आखिरकार मानव जीवन को बेहतर बनाया जाना चाहिए। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि एनआईटी जैसे प्रौद्योगिकी संस्थानों को व्यापक स्तर के नवाचार पर ध्यान देना चाहिए।

    उन्होंने कहा कि नवाचार का एक ही मंत्र हो कि उससे संस्थान आगे बढ़े। नायडू ने कहा कि भारत के लिए नवाचार की सख्त जरूरत है।

     

Reporter : ,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।