​ ​ उप्र : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी
Thursday, April 2, 2020 | 12:14:57 PM

RTI NEWS » PMO India » PMO News


उप्र : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी

Tuesday, December 10, 2019 23:27:26 PM , Viewed: 2766
  •  महोबा, 10 दिसंबर | उत्तर प्रदेश में महोबा जिले के बुंदेलियों ने मंगलवार को चौथी बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खून से चिट्ठी लिखकर भेजा है।

     अबकी बार स्वास्थ्य सेवाएं सुढृढ़ करने की मांग की गई है। पृथक बुंदेलखंड़ राज्य की मांग को लेकर अनवरत अनशन कर रहे बुंदेली समाज संगठन के संयोजक तारा पाटकर ने बताया, "महोबा जिला के गठन के पच्चीस साल पूरे हो गए हैं, लेकिन अब तक यहां की स्वास्थ्य सेवाएं सुदृढ़ नहीं की गई है। यहां तक कि जिला स्तरीय सरकारी अस्पताल में न तो पर्याप्त चिकित्सक हैं और न ही दवाएं ही उपलब्ध रहती हैं। जिला अस्पताल दो सौ बेड के न हो पाने की वजह से प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज भी अधर में लटक गया है।"

    उन्होंने बताया, "मंगलवार को दो दर्जन सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खून से चिट्ठी लिखकर कहा कि स्वास्थ्य सेवाएं नहीं दे सकते, तो हमें मौत दे दीजिए, हम तिल-तिल नहीं मरना चाहते।"

    पाटकर ने बताया कि यह चौथी बार है, जब बुंदेलियों ने प्रधानमंत्री को खून से चिट्ठी लिखी है। इसके पहले तीन बार पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग और अन्य समस्याओं को लेकर भी चिट्ठी लिखी जा चुकी है।

    उन्होंने बताया, "स्वास्थ्य सेवाओं की मांग को लेकर खून से चिट्ठी लिखने वालों में देवेन्द्र तिवारी, हरिओम निषाद, लालजी त्रिपाठी, कल्लू चौरसिया, अमरचंद्र, डॉ. अजय सरसैया और मोहम्मद अजीम प्रमुख हैं।"

Reporter : ,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।