​ ​ पढें: ईसाइयों का पवित्र त्यौहार पाम संडे, केरल में मनाया जा रहा जश्न..!
Friday, July 20, 2018 | 4:14:45 PM

RTI NEWS » Others » Spritual


पढें: ईसाइयों का पवित्र त्यौहार पाम संडे, केरल में मनाया जा रहा जश्न..!

Sunday, March 25, 2018 19:29:06 PM , Viewed: 2946
  • तिरुवनंतपुरम: ईसा मसीह को गिरफ्तार कर सूली पर चढ़ाए जाने से पहले जेरुसलम में उनके प्रवेश का उत्सव मनाने के लिए केरल में ईसाइयों ने रविवार को 'पाम संडे' के रूप में मनाया। गिरजाघरों में रविवार को खचाखच भीड़ रही और कई जगहों पर श्रद्धालु ताजे कटे ताड़ के पत्ते हाथों में लेकर ईसा मसीह के जेरुसलम में प्रवेश का उत्सव मनाने के लिए सड़कों पर उतरे, जिससे यातायात रुक गया।

    बहुत से घरों में चर्च से लाए हुए पत्तों को ईसा मसीह की तस्वीर के सामने लगाया गया और यह क्रिसमस शाम तक ऐसे ही लगे रहेंगे, जिसके बाद उत्सवाग्नि बनाने के लिए इन्हें चर्च को वापस दिया जाएगा।

    अब से लेकर एक अप्रैल के पहले रविवार तक अधिक संख्या में लोग इकठ्ठे होंगे, विशेषकर 30 मार्च यानी गुड फ्राइडे को।

    केरल की 3.34 करोड़ जनसंख्या में करीब 61.41 लाख ईसाई हैं, जिसमें से 29.94 लाख पुरुष और 31.74 लाख महिलाएं हैं।

    पाम संडे यानी कि खजूर पर्व मनाया जा रहा
    ईसाई समुदाय में आज पाम संडे यानी क‍ी खजूर पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन ईसाई धर्म के अनुयाइयों द्वारा अलग-अलग स्थानों पर जुलूस निकाला जाता है। पाम संडे के लिए गिरजाघरों में विशेष तैयारियां पहले से की जाती है। इस दिन लोग खजूर की डालियों को लेकर चर्च में जाते हैं। सभी चर्चों में विशेष प्रार्थना सभाएं होती हैं। अधिकांश घरों में, चर्च से प्राप्त ताड़ के पत्ते यीशू की तस्वीर के सामने रखे जाते हैं।

    केरल में अलग ही रौनक देखने को मिलती
    वैसे तो भारत के कई बड़े शहरों में यह फेस्‍ट‍िवल धूमधाम से मनाया जाता है लेकि‍न केरल में इसकी एक अलग ही रौनक देखने को म‍िलती है। इसका कारण है कि केरल की 33.4 मिलियन आबादी है। इसमें करीब ईसाई 61.41 लाख ईसाई हैं। इनमें 29.94 लाख पुरुष और 31.47 लाख महिलाएं हैं। केरल में पाम फेस्‍टि‍वल को देखने के लिए बड़ी संख्‍या में टूरिस्‍ट आते हैं और काफी ट्रैफिक जाम रहता है।

    खजूर की डालियों से स्वागत किया था
    पाम संडे को ईसाई समुदाय के लोग प्रभु यीशू के यरुशलम में विजयी प्रवेश के रूप में मनाते हैं। कहा जाता है कि यीशू मसीह ने चालीस दिन के उपवास काल में पाम संडे के दिन भारी भीड़ के साथ यरुशलम में प्रवेश किया था। इस दौरान जिस रास्‍ते से वह गुजर रहे थे लोगों ने उनके स्वागत के लिए अपने कपड़ों को बिछाने के साथ खजूर की डालियों को हाथों में लेकर उनका स्वागत किया था।

    ईसाई समुदाय में पवित्र सप्‍ताह मना जाता
    बतादें कि यह पाम संडे से ईस्‍टर संडे का यह समय ईसाई समुदाय में पवित्र माना जाता है। पाम संडे के बाद पवित्र बृहस्पतिवार और उसके बाद गुड फ्राइडे मनाया जाता है। इसके बाद पवित्र शनिवार जिसे कई बार मौन संडे के रूप में भी जाना जाता है। इसके बाद रविवार को ईस्‍टर संडे के नाम से जाना जाता है। ऐसे में बतादें कि खजूर रविवार, पवित्र बृहस्पतिवार और गुड फ्राइडे यीशु के आखिरी रात्रिभोज के रूप में जाने जाते हैं। 

     

Reporter : ArunKumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।