​ ​ पुलवामा अटैकः शहीदो के लिए मस्जिद में मांगी गई दुआ
Tuesday, July 16, 2019 | 4:48:28 AM

RTI NEWS » Others » Spritual


पुलवामा अटैकः शहीदो के लिए मस्जिद में मांगी गई दुआ

Sunday, February 17, 2019 11:02:46 AM , Viewed: 3815
  • एंकरः जम्मू कश्मीर में  हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों की आत्मा की शांति के लिए फिरोजाबाद की शीतल खा मस्जिद में नमाज अता की गई तथा शहीद सैनिको की आत्मा शांति के लिए दुआ की गई मुस्लिम समाज के लोगों में इस हमले को लेकर पाकिस्तान के प्रति भारी रोष है अधिकांश मुस्लिम चाहते हैं कि अब समय आ गया है कि पाकिस्तान पर हमला कर देना चाहिए वही मौलवियों ने कहा कि जिहाद का मतलब गलत निकाला जा रहा है आप का मतलब लोगों की सेवा करना धर्म को आगे बढ़ाना है लेकिन वह इस कायर आतंकवादी हमले की पूर्ण निंदा करते हैं तथा सरकार से आग्रह करते हैं कि वे इस हमले का कठोर जवाब दें मुस्लिम समाज हिंदुस्तानी है और हिंदुस्तान के साथ ही हर समय खड़ा है इस तरह से सैनिकों पर हमला करना और शहीद कर देना किसी भी लिहाज में उचित नहीं ठहराया जा सकता उन्होंने कहा कि मुस्लिम समाज को बदनाम करना ठीक नहीं है यह लोग जो आतंकवादी हैं किसी भी कौम के हो सकते हैं और यह किसी भी कौम को मारते हैं यह किसी भी तरह से जिहाद नहीं है।
     
    मोहम्मद शफीक ने कहा कि हमारा हिंदुस्तान इस समय सबसे दर्दनाक हालात से गुजर रहा हैं क्योंकि जिसने भी यह किया है यह अगर पाकिस्तान के तरफ से है तो हमारे हिंदुस्तान को कठोर से कठोर कदम उठाना चाहिए और बहुत जल्द कदम उठाना चाहिए हालात इतने बिगड़ते जा रहे हैं आपस में फूट पड़ी हुई है आज जो मस्जिद में दुआ हुई है हमने जो दुआ की है वह केवल शहीद सैनिकों की आत्मा की शांति के लिए की गई है उनकी आत्मा की शांति पहुंचे।
     
    मोहम्मद कामरान खान ने कहा कि कोई भी मरा लेकिन हमारा हिंदुस्तानी ही मरा है जेहाद का मतलब ये नही की किसी को मारो किसी को पीटो किसी को बेघर करो जेहाद का मतलब ये है कि अपने माँ बाप की सेवा करो अपनी कोम की खिदमत करो अपने हिंदुस्तान की खिदमत करो हमारे उलेमा तो पूरे हिंदुस्तान की दुआ करते है सरकार कदम उठा रही है और आगे भी कदम उठाएगी जल्दी ही आतंकवादियो का खात्मा हो जाएगा।
     

Reporter : Arunkumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।