​ ​ राजस्थान कांग्रेसः इतिहास के झरोखे से पार्टी के वफादार ये है गुमनाम सेवादार
Wednesday, September 26, 2018 | 1:33:09 AM

RTI NEWS » Others » History


राजस्थान कांग्रेसः इतिहास के झरोखे से पार्टी के वफादार ये है गुमनाम सेवादार

Friday, June 15, 2018 19:46:46 PM , Viewed: 2596
  • कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है और इस पार्टी से जुड़े हुए लोगों का इतिहास भी उतना ही पुराना है। राजस्थान कांग्रेस मुख्यालय में काम करने वाले कुछ ऐसे लोग भी हैं जिन्हें कोई नहीं जानता। जिनकी अपनी कोई पहचान नहीं है। अपना कोई वजूद नहीं है। लेकिन पार्टी की सेवा करते इन्हें 50 साल से अधिक का समय हो गया है। न जाने कितने पीसीसी चीफ को इन लोगों ने चाय पिलाई है, उनके ऑफिशियल कामकाज को संभाला है। न जाने कितने मुख्यमंत्री की कार्यशैली को नजदीक से देखने का मौका मिला है लेकिन निस्वार्थ भाव से काम कर रहे इन लोगों की कभी भी पार्टी से कोई उम्मीद कोई आशा नहीं रही है। राजस्थान में अधिकांश समय सत्ता में रही कांग्रेस पार्टी के लिए वह काम कर रहे इन कार्यकर्ताओं के जीवन में आज भी कोई बड़ा बदलाव नहीं आ पाया है।
     
    यह 65 साल के बुधराम हैं जो राजस्थान में राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं में से एक हैं। पिछले 49 साल से प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में सेवादार है। इनके पास पीसीसी चीफ और अन्य नेताओं के लिए चाय पानी का इंतजाम करने की जिम्मेदारी है। बुधराम सुबह 9 बजे बजे पीसीसी मुख्यालय पहुंच जाते हैं। 49 साल के अपने इस कार्यकाल में बेहद कम अवसर ऐसे आए हैं जब बुधराम को छुट्टी लेनी पड़ी हो। यह प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय को ही अपना घर मानते हैं। 49 साल में इन्होंने कांग्रेस के न जाने कितने प्रदेश अध्यक्ष देखे हैं। उनकी बदलती कार्यशैली देखी है। लेकिन इनका मानना है कि मोहनलाल सुखाड़िया से लेकर सचिन पायलट तक भले ही कांग्रेस के नेता बदले हों लेकिन कांग्रेस की नीतियां और सिद्धांत गरीब के लिए आज भी वही है।
     
    कांग्रेस पार्टी की जीवनभर सेवा करने वाले केवल बुधराम ही नहीं है बल्कि और भी ऐसे कर्मचारी हैं जिन्होंने अपना पूरा जीवन पार्टी को समर्पित कर दिया है। ऐसे ही एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है जगदीश कुमार। जगदीश कुमार ने 1984 से प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में काम करना शुरू किया था। पिछले 42 सालों से लगातार पीसीसी में नेताओं की डाक उनके फोन कॉल्स और फेक्स का विवरण देखने की जिम्मेदारी जगदीश कुमार के पास है। जगदीश कुमार का कहना है कि अब कहीं और जाने के बारे में सोच भी नहीं सकते। कांग्रेस कि उनके लिए सब कुछ है पार्टी ने भी उन्हें बहुत कुछ दिया है।
     
    ऐसा नहीं है कि इन कर्मचारियों को इतने लंबे समय काम करने के दौरान इनको तवज्जो नहीं मिली हो। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के नेताओं और कार्यकर्ताओं का पूरा मान-सम्मान इन कर्मचारियों को मिलता रहा है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से समय-समय पर इनकी पदोन्नति का भी पूरा ध्यान रखा जाता है।

    1966 में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के तौर पर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में काम करने वाले श्याम कुमार को समय आने पर लिपिक के तौर पर पदोन्नत किया गया। अब यह प्रदेश कांग्रेस कार्यालय का रिकॉर्ड मेंटेन रखते हैं।
     
    ये देखना सुखद एहसास है कि कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ताओं के साथ-साथ वह लोग भी जुड़े हुए हैं जो पार्टी के साथ पर्दे के पीछे रहकर काम करते हैं। इन्हें अपनी पहचान की कोई चाह नहीं है। इन्हें पार्टी से टिकट या पद भी नहीं चाहिए। ये सही है कि इनके काम के बदले एक न्यूनतम वेतन इन लोगों को मिलता है। लेकिन इन्होंने जो सेवा पार्टी उसके नेताओं और कार्यकर्ताओं की की है वह न्यूनतम वेतन से कहीं अधिक की हकदार हैं।
     

Reporter : ArunKumar,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।