​ ​ खेसारी मिश्रित चने की खरीद से मप्र के लाखों किसानों को होगा फायदा : तोमर
Tuesday, July 7, 2020 | 8:48:35 PM

RTI NEWS » News » Business


खेसारी मिश्रित चने की खरीद से मप्र के लाखों किसानों को होगा फायदा : तोमर

Thursday, June 4, 2020 00:30:36 AM , Viewed: 88
  • नई दिल्ली, 3 जून । केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा कि मध्यप्रदेश में खेसारी मिश्रित चने की खरीद की अनुमति से प्रदेश के 15 से अधिक जिलों के लाखों किसानों को फायदा होगा।

    केंद्र सरकार ने मध्यप्रदेश में दो प्रतिशत तक खेसारी मिश्रित चने की खरीद की अनुमति दी है। कृषि मंत्री तोमर ने इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्धन के साथ बैठक की थी। बैठक के दौरान चर्चा हुई थी कि फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्डस अथॉरिटी आफ इंडिया ने खेसारी बेचने पर प्रतिबंध लगाया था, जिससे चना उत्पादक बहुल म.प्र. के किसानों को नुकसान हो रहा है।

    मध्यप्रदेश के सागर, विदिशा, दमोह, छतरपुर व रायसेन में चने का काफी उत्पादन होता है। गुना, धार, इंदौर, अशोक नगर, खंडवा, उज्जैन, देवास, शिवपुरी, हरदा, सीहोर आदि जिलों में भी हजारों किसान चना उगाते हैं। किसानों की समस्या थी कि उनकी चने की उपज में खेसारी दाल मिली होती है, जिससे वे न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी पर चना नहीं बेच पाते थे व चने की एमएसपी नहीं मिलने से नुकसान होता था।

    चने से खेसारी अलग करना भी आसान नहीं होता, जिससे वे सरकारी खरीद केंद्रों पर नहीं दे पा रहे थे।

    केंद्र सरकार ने इन लाखों किसानों की तकलीफ समझते हुए भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नाफेड) को निर्देशित किया, जिसके बाद नाफेड ने अपनी सभी शाखाओं तथा अन्य एजेंसी से कहा है कि चने में खेसारी दो प्रतिशत तक मान्य होगी। म.प्र. में इस बार लगभग 35 लाख टन चना उत्पादन हुआ है। सागर, विदिशा, दमोह, छतरपुर व रायसेन जिलों में इसका एक-चैथाई उत्पादन है। चने की एमएसपी 4,875 रुपये प्रति क्विंटल है। म.प्र. में लगभग 3.70 लाख टन चने की खरीद हो चुकी है, वहीं करीब 5 लाख टन चने की और खरीद होगी, जो अगले महीने तक चलेगी।

    --आईएएनएस

Keywords : ,

Reporter : ,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।