​ ​ भारतीय चिकित्सा पद्धति को आगे बढ़ाने को मेदांता-आयुर्वेद में साझेदारी
Thursday, June 20, 2019 | 11:49:08 PM

RTI NEWS » Entertainment » Health


भारतीय चिकित्सा पद्धति को आगे बढ़ाने को मेदांता-आयुर्वेद में साझेदारी

Friday, October 12, 2018 21:39:37 PM , Viewed: 150
  • गुरुग्राम, 12 अक्टूबर | भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद को आगे बढ़ाने की दिशा में शुक्रवार को देश के दो प्रमुख अस्पतालों ने हाथ मिलाया। मेदांता मेडिसिटी और आयुर्वेद हॉस्पिटल्स ने मिलकर आपसी साझेदारी में मेदांता-आयुर्वेद का शुभारंभ करने की घोषणा की। गुरुग्राम स्थित मेदांता मेडिसिटी में सभी सुविधाओं से सुसज्जित मेदांता-आयुर्वेद के क्लिनिक की शुरुआत की गई है, जिसमें आयुर्वेद के विशेषज्ञ मरीजों को जटिल व असाध्य रोगों से हमेशा के लिए निजात पाने की विधियां बताएंगे।

    आयुर्वेद राष्ट्रीय अस्पताल प्रत्यायन बोर्ड (एनएबीएच) से मान्यता प्राप्त भारत का पहला आयुर्वेदिक अस्पताल है जिसने मेदांता के साथ गठजोड़ करके मेदांता-आयुर्वेद की नींव डाली है।

    आयुर्वेद अस्पताल के प्रबंध निदेशक और सीईओ राजीव वासुदेवन ने कहा, " आयुर्वेद के प्रोटोकोल से संचालित आयुर्वेद मेडिकल केयर मुख्य धारा की दो चिकित्सा प्रणालियों- आधुनिक औषधि विज्ञान और आयुर्वेद का मेल है। मेदांता के साथ हमारी साझेदारी से चिकित्सा के क्षेत्र का विकास होगा और उसका लाभ मरीजों को मिलेगा।"

    मेदांता के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक डॉ. नरेश त्रेहन ने कहा, "आयुर्वेद अस्पतालों के साथ मेदांता का गठजोड़ एकीकृत दवाइयों में हमारे विश्वास को मजबूत करता है और यह हमारे व्यवहार में भी है। इसमें अलग-अलग चिकित्सा क्षेत्रों की खासियत है। चिकित्सा के क्षेत्र में इससे अनूठा और प्रभावी समाधान तलाशने में यह एकीकरण कारगर साबित होगा।"

     

Reporter : ,
RTI NEWS


Disclaimer : हमारी वेबसाइट और हमारे फेसबुक पेज पर प्रदर्शित होने वाली तस्वीरों और सूचनाएं के लिए किसी प्रकार का दावा नहीं करते। इन तस्वीरों को हमने अलग-अलग स्रोतों से लिया जाता है, जिन पर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है। यदि आपको लगता है कि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई कोई भी तस्वीर आपके कॉपीराइट का उल्लंघन करती है तो आप यहां अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं- rtinews.net@gmail.com

हमें आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा है। हम उस पर अवश्य कार्यवाही करेंगे।


दूसरे अपडेट पाने के लिए RTINEWS.NET के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।